फुटबॉल सूचना सट्टेबाजी नेटवर्क

Publishing time:2021-10-26 10:36:29

गोवा नाईट चार्ट फुटबॉल सूचना सट्टेबाजी नेटवर्क betway नेट वर्थ 2021,लियोवेगास कैसीनो डाउनलोड,lovebet 8000,lovebet केघली,0.5 के तहत प्यार का मतलब है,5d शतरंज गेमप्ले,बैकरेट सट्टेबाज लाभ,बैकरेट भर्ती व्यापार भाषा,बेस्ट ऑफ़ हाय फाइव,नकद सट्टेबाजी का खेल,कैसीनो हथेलियों,शतरंज की रणनीति,क्रिकेट डीपी,दैनिक जैकपॉट खेल,यूरोपीय कप खेल तालिका,फुटबॉल असाधारण कार्रवाई,जुआ वीडियो स्पष्टीकरण,गन्ने से खुश किसान,भारत में indibet कानूनी,जैकपॉट गेम्स ऐप,लेट 0-0 लवबेट,लाइव रूले विकास,लॉटरी ऑनलाइन खेल,प्रमुख यूरोपीय सट्टेबाजी कंपनियां,ऑनलाइन कैसीनो यह कैसे काम करता है,ऑनलाइन जुआ खेला,ऑनलाइन स्लॉट यूएसए कोई जमा बोनस नहीं,पोकर ए ला टीवी,pokerstrategy.com बराबर,रूले जीतने का फार्मूला हिंदी में,रम्मी विलासिता,श क्रिकेट चमगादड़,स्लॉट पी रास्ता,भारत में खेल विश्वविद्यालय,तीन पत्ती स्टार,सबसे अधिक पेशेवर फ़ुटबॉल वेबसाइट,जंगले rummy.com पर जाएं,विश्व कप फाइनल,असली पैसे का खेल essay,कैटरीना धाम के भजन,खेलो पर जुआ game,जोकर झगड़ा,प्ले चेस ऑनलाइन,बेटा ऋषि कपूर,लाटरी ओल्ड रिजल्ट,स्टेटस शायरी डाउनलोड, .आयात शुल्क घटाने के बाद आयातित तेल सस्ता होने से सभी तेल-तिलहन में गिरावट

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

आयात शुल्क घटाने के बाद आयातित तेल सस्ता होने से सभी तेल-तिलहन में गिरावट

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) आयात शुल्क कम किये जाने के बाद आयातित तेलों के भाव घटने से दिल्ली मंडी में सोमवार को सोयाबीन डीगम, सीपीओ, पामोलीन जैसे आयातित तेलों के अलावा बाकी तेल- तिलहनों के भाव भी गिरावट का रुख प्रदर्शित करते बंद हुए।

बाजार सूत्रों ने कहा कि आयात शुल्क में कमी किये जाने के बाद डीगम और सीपीओ जैसे आयातित तेल बाजार में सस्ते हुए हैं। इसी कारण मूल्य में गिरावट दिख रही है। उन्होंने कहा कि जिस अनुपात में आयात शुल्क में कमी की गई है, उस अनुपात में खुदरा भाव कम नहीं किये जा रहे और विशेषकर बड़ी तेल कंपनियां इसका फायदा उठा रही हैं। सरकार भी इस बात को लेकर चिंतित है कि आयात शुल्क में कटौती किये जाने का लाभ किस तरह से उपभोक्ताओं को पहुंचाया जाये।

बाजार सूत्रों ने कहा कि मलेशिया एक्सचेंज में एक प्रतिशत की तेजी है जबकि शिकॉगो एक्सचेंज फिलहाल 1.8 प्रतिशत मजबूत है। उन्होंने कहा कि विदेशों में तेजी के बावजूद आयातित तेल का भाव सस्ता बैठ रहा है और इसी वजह से कीमतों में गिरावट है।

बाजार सूत्रों ने कहा कि सोयाबीन की नयी फसल की मंडियों में आवक बढ़ रही है और मांग कमजोर है जिसकी वजह से इसके तेल-तिलहन के भाव टूटे हैं। उन्होंने कहा कि सोयाबीन के तेल रहित खल (डीओसी) की मांग तथा निर्यात कमजोर होने से भी सोयाबीन तेल-तिलहन में गिरावट आई।

उन्होंने कहा कि सरसों में मांग कमजोर है और यह गरीब उपभोक्ताओं की पहुंच से यह दूर हो रहा है। इसके मुकाबले आयातित सोयाबीन रिफाइंड और सीपीओ उनके लिए सस्ता बैठता है जिसकी ओर इन उपभोक्ताओं का रुख होता जा रहा है। सरसों का स्टॉक नहीं होने से इसकी लगभग 70-75 प्रतिशत तेल मिलें बंद हो गयी हैं। मुंबई की बड़ी कंपनियों ने हरियाणा से 177.50 रुपये किलो (अधिभार सहित) पक्की घानी तेल खरीदा है। उन्होंने कहा कि इस बार सरसों की उपलब्धता कम होने से सरसों खली की मांग है जो आगे और बढ़ने की उम्मीद है।

सूत्रों ने कहा कि उपभोक्ताओं को पामोलीन सही भाव मिल रहा है लेकिन सूरजमुखी, सोयाबीन और मूंगफली तेल की जो दरें समाचार माध्यमों में दर्शायी जा रही हैं, उनका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि मूंगफली का भाव लगभग 200 रुपये लीटर, सोयाबीन रिफाइंड 155 रुपये लीटर और सूरजमुखी तेल का भाव 168-70 रुप़ये लीटर बताया जा रहा है। उन्होंने मूंगफली तेल का उदाहरण देते हुए तर्क दिया कि मूंगफली की नयी फसल मंडियों में आ रही है और इसके हाजिर भाव टूटे हुए हैं लेकिन फिर मूंगफली तेल के भाव को हाजिर भाव से इतना अधिक कैसे बताया जा रहा हैं?

सूत्रों ने कहा कि वास्तव में सारे खर्च और देनदारी के बाद भी सोयाबीन तेल अधिकतम 135-140 रुपये के दायरे में होना चाहिये। इसी प्रकार सूरजमुखी तेल अधिकतम 135-140 रुपये लीटर और मूंगफली तेल अधिकतम 150-160 रुपये लीटर पड़ना चाहिये। लेकिन बड़ी तेल कंपनियां कटौती का महत्तम लाभ उपभोक्ताओं तक नहीं पहुंचा पा रही हैं।

सूत्रों ने कहा कि सरकार को अधिक भाव पर बिक्री कर अनुचित लाभ कमाने वालों की निगरानी रखनी होगी।

बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

सरसों तिलहन - 8,845 - 8,875 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।

मूंगफली - 6,200 - 6,285 रुपये।

मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,050 रुपये।

मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,060 - 2,185 रुपये प्रति टिन।

सरसों तेल दादरी- 17,900 रुपये प्रति क्विंटल।

सरसों पक्की घानी- 2,690 -2,730 रुपये प्रति टिन।

सरसों कच्ची घानी- 2,765 - 2,875 रुपये प्रति टिन।

तिल तेल मिल डिलिवरी - 15,500 - 18,000 रुपये।

सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,000 रुपये।

सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,550 रुपये।

सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,500

सीपीओ एक्स-कांडला- 11,450 रुपये।

बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,950 रुपये।

पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 13,000 रुपये।

पामोलिन एक्स- कांडला- 11,800 (बिना जीएसटी के)।

सोयाबीन दाना 5,000 - 5,300, सोयाबीन लूज 4,850 - 4,950 रुपये।

मक्का खल (सरिस्का) 3,825 रुपये।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read
आयात शुल्क घटाने के बाद आयातित तेल सस्ता होने से सभी तेल-तिलहन में गिरावट

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने सोमवार को दूरसंचार लाइसेंस नियमों में संशोधन किया। इसके तहत सभी गैर-दूरसंचार राजस्व, लाभांश, ब्याज, संपत्ति बिक्री और किराये समेत अन्य को लाइसेंस शुल्क तथा स्पेक्ट्रम प्रयोग शुल्क की गणना से बाहर किया गया है। इसका उद्देश्य दूरसंचार परिचालकों पर कर बोझ को कम करना है। संशोधन केंद्र सरकार द्वारा घोषित दूरसंचार पैकेज का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) की पुरानी परिभाषा को उच्चतम न्यायालय ने बरकरार रखा है। इससे भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया समेत दूरसंचार सेवाप्रदाताओं पर करीब 1.47 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ानयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) केंद्र ने सोमवार को कहा कि उसने काजू के बागानों में कीटों को नियंत्रित करने के लिए केरल की महिला किसान द्वारा विकसित एक अभिनव तरीके को आवश्यक सहायता देने के लिये चुना है। कन्नूर जिले की महिला किसान ने एक अभिनव 'काजू मल्टीपल रूटिंग प्रोपेगेशन मेथड' विकसित किया है। इसके तहत एक बड़े काजू के पेड़ में कई जड़ें उत्पन्न होती हैं। इस प्रकार प्रति यूनिट क्षेत्र में उत्पादन में सुधार होता है। यह तना और जड़ों के पर्यावरण अनुकूलAir india हुई अब टाटा की, शेयर खरीद समझौते पर हस्ताक्षर होते ही सौदा हुआ पूरा

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) आयात शुल्क कम किये जाने के बाद आयातित तेलों के भाव घटने से दिल्ली मंडी में सोमवार को सोयाबीन डीगम, सीपीओ, पामोलीन जैसे आयातित तेलों के अलावा बाकी तेल- तिलहनों के भाव भी गिरावट का रुख प्रदर्शित करते बंद हुए। बाजार सूत्रों ने कहा कि आयात शुल्क में कमी किये जाने के बाद डीगम और सीपीओ जैसे आयातित तेल बाजार में सस्ते हुए हैं। इसी कारण मूल्य में गिरावट दिख रही है। उन्होंने कहा कि जिस अनुपात में आयात शुल्क में कमी की गई है, उस अनुपात में खुदरा भाव कम नहीं किये जा रहे औरदुबई, 25 अक्टूबर (भाषा) कोलकाता के दिग्गज उद्योगपति संजीव गोयनका के आरपी-एसजी समूह ने सोमवार को इंडियन प्रीमियर लीग की लखनऊ फ्रेंचाइजी 7090 करोड़ रुपये में खरीदी जबकि अंतरराष्ट्रीय इक्विटी निवेश फर्म सीवीसी कैपिटल ने अहमदाबाद फ्रेंचाइजी 5600 करोड़ रुपये की बोली लगाकर अपने नाम की।भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को 2022 से आईपीएल में हिस्सा लेने वाली दो नई टीमों से 10 हजार करोड़ रुपये के आसपास मिलने की उम्मीद थी लेकिन उसे 12,690 करोड़ रुपये की कमाई हुई।पीटीआई ने रविवार को अपनी खबर में कहा था कि गोयनका फ्रेंचाइजी खरीदने के प्रबल दावेदारों में शामिल हैं। इससे पहले आईपीएल मेंश्रीलंका के राष्ट्रपति से मिले अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने परिवहन ईंधन के रूप में हरित हाइड्रोजन की वकालत करते हुए आयात पर निर्भरता कम करने पर जोर दिया है। गडकरी ने सोमवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत को एक ऐसा देश बनाने की जरूरत है जो पेट्रोल और डीजल के आयात पर निर्भर नहीं हो। उन्होंने इस बात पर क्षोभ जताया कि कई देश पेट्रोल और डीजल की बिक्री के धन का इस्तेमाल आतंकवाद के वित्तपोषण के लिए कर रहे हैं। मंत्री ने कहा, ‘‘हरित हाइड्रोजन पेट्रोल और डीजलनयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने फोर्टिस हेल्थकेयर होल्डिंग्स पर गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर से जुड़े नियमों का उल्लंघन के लिए 3.5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। सेबी ने सोमवार को एक आदेश में कहा कि कंपनी पर एलओडीआर (सूचीबद्धता दायित्व एवं खुलासा आवश्यकता) नियमों के कई प्रावधानों के उल्लंघन के लिए जुर्माना लगाया गया है। नियामक ने कहा कि फोर्टिस ने कुछ आईएसआईएन (इंटरनेशनल सिक्योरिटीज आइडेंटिफिकेशन नंबर) के लिए ब्याज के भुगतान के बारे में जानकारी नहीं दी। आईएसआईएन कोड का इस्तेमाल विशिष्ट रूप से शेयर, बॉन्ड वारंट और वाणिज्यिक पत्रों जैसी प्रतिभूतियों की पहचानजम्मू-कश्मीर में बाहरी निवेशकों को निजी भूमि हस्तांतरित करने के लिए कानून में संशोधन की मांग

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


पैसे कमाने के लिए ऑनलाइन जुए की स्थापना कैसे करें
क्या वाईफा इंटरनेशनल घोटाला पैसा है?
कैसीनो जीत
ठाणे गोवा
एन फुटबॉल खिलाड़ी
बैकारेट खेलने के कौशल क्या हैं
ला पोकर कैसीनो
ऑनलाइन पोकर ज़ा प्रवे पारे
जैकपॉट गेम्स
बेटिंग कंपनी की अच्छी प्रतिष्ठा है
असली पैसे का खेल pdf
ऑनलाइन एंटी-ट्रैकिंग बैकारेट आकार
मज़ेदार ऑनलाइन रियल मनी रूले गेम क्या हैं
आईपीएल झांसी
प्राकृतिक 8 पोकर बोनस कोड
गोवा बीच
एक स्पोर्ट्स स्टार
ई-स्पोर्ट्स क्लब
लॉटरी 50
जल्दी ३डी
करीना उत्तर प्रदेश
बैकारेट क्रिस्टल
lovebet.के
कैसीनो की दुनिया
जोकर टैटू
बैकारेट रानी
lovebet 96 ऐप