स्पोर्ट्सबुक रिव्यू ऑड्स

Publishing time:2021-10-26 10:36:03

एस्पोर्ट्स वॉलपेपर स्पोर्ट्सबुक रिव्यू ऑड्स 188bet मोबाइल ऐप मुफ्त डाउनलोड,casumo सत्यापित खाता,lovebet 2 4 सिस्टम,lovebet f1,lovebet आर हिल मृत्युलेख,lovebetबीडी,बैकारेट २ यू,बैकारेट जूलिंग इंटरनेशनल,बैटरी सौर इन्वर्टर,सट्टेबाजी क्षेत्र,गोवा में कैसीनो प्रवेश शुल्क,सीसीएच शतरंज,क्रिकेट 19 क्रैक डाउनलोड,क्रिकेट रिज विंडहैम एनएच,ई-स्पोर्ट्स इंटरनेशनल इंक,फुटबॉल 03/07,फुटबॉल वीडियो 2020,ग्राउंड फ़ुटबॉल,201 पूल रम्मी कैसे खेलें,क्या ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर बैकारेट भौतिक के समान ही है?,जंगल रम्मी प्रीमियम,लाइव कैसीनो नौकरियां माल्टा,लॉटरी क्लब,लूडो चुटकुले,ओसी लॉटरी कार्यालय,ऑनलाइन गेम डेवलपमेंट कोर्स,ऑनलाइन पोकर जिंगा,परिमच बनाम बेट365,पोकर योजना ऑनलाइन,री लॉटरी परिणाम,रुम्मिकब ऑनलाइन,रम्मीकल्चर हैक,स्लॉट मशीन यूट्यूब वीडियो,स्पोर्ट्स ई न्यूज,एसएस कैसीनो जहाज़ की तबाही,पोकर,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल खिलाड़ी प्रशिक्षण,बैकारेट खेलने के लिए कौन सा मनोरंजन मंच सबसे अच्छा है?,21 बजे net,ऑनलाइन पैसे बनाएं english,क्रिकेट ओडीआई,गोवा यूनिफॉर्म सिविल कोड,तीन पत्ती मूवी,बकरी ज्ञापन होने की दवा,बैकारेट zip code,स्टेटस आधार कार्ड, .वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी.
नई दिल्ली: जोखिम बढ़ने और कोविड-19 महामारी के बीच अनिश्चितता के चलते निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

यह लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी. म्यूचुअल फंडों की संस्था एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

इसे भी पढ़ें: किसे सता रहा अमेरिका में महंगाई बढ़ने का डर?

माईवेल्थग्रोथ डॉट कॉम के सह-संस्थापक हर्षद चेतनवाला ने कहा कि इस बात की संभावना काफी कम है कि चालू वित्त वर्ष में भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश का यह ट्रेंड जारी रहे. हालांकि, कोरोना की दूसरी लहर ने बाजार को डरा दिया है.

एम्फी के आंकड़ों के अनुसार हाल में समाप्त वित्त वर्ष में निवेशकों ने गोल्ड से जुड़े 14 ईटीएफ में शुद्ध रूप से 6,919 करोड़ रुपये का निवेश किया. यह 2019-20 में हुए 1,614 करोड़ रुपये के निवेश का चार गुना है.

इससे पहले 2018-19 में गोल्ड ईटीएफ से शुद्ध रूप से 412 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी. 2017-18 में गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये निकाले गए थे.

इसे भी पढ़ें: विदेशी निवेशकों ने अप्रैल में भारतीय बाजार से निकाले 929 करोड़ रुपये

हालांकि, साल 2012-13 के दौरान इस सेगमेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. बीते कुछ सालों से रिटेल निवेशकों ने बेहतर रिटर्न की चाहत में गोल्ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी बाजार में अधिक पैसा डाला है.

क्वांटम म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर (ऑल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट) चिराग मेहता ने कहा, "अधिक जोखिम और कोरोना वायरस के चलते बढ़ी अस्थिरता का असर इक्विटी जैसे जोखिम भरे एसेट्स को प्रभावित करेंगी. निवेशकों की दिलचस्पी गोल्ड जैसे सुरक्षित एसेट्स में बढ़ सकती है."




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

गोल्ड ईटीएफक्वांटम म्यूचुअल फंडएम्फीशेयर बाजारईटीएफएक्सचेंज ट्रेडेड फंडमाईवेल्थग्रोथ डॉट कॉमकोरोना वायरस

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read
वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


रम्मी क्लासिक लाइन रेगेलन
शतरंज 2 खिलाड़ी
lovebet लॉटरी
क्या आपने ऑनलाइन बैकरेट खेला है?
फुटबॉल खिलाड़ियों का अपहरण
betway न्यूज
बैकारेट गेम खेलने के कौशल क्या हैं
यूरोपीय फुटबॉल क्लबों की रैंकिंग
mpl . में पूल रम्मी नियम
गोवा लाटरी
lovebet रेफरल कोड
क्रिकेट ट्रे बनाम सुपर
बैकरेट गेम सॉफ्टवेयर डाउनलोड
रम्मीकल्चर फेयर प्ले पॉलिसी
क्रिकेट लेन मिलफोर्ड एमए
lovebet 6 फोल्ड
फुटबॉल मैच लाइव टेबल
बैकरेट बैंकर हेज
फुटबॉल हिस्ट्री इन हिंदी
खेल नौकरियां सरकार
क्रिकेट चे नियम मराठी
रूले पीने का खेल
डीएच स्पोर्ट्स सॉक्स
लॉटरी लॉटरी सांबाद
10cric ट्विटर
ध्यानचंद cricket stadium
ऑनलाइन बैकारेट प्लग-इन