विलियम हिल ऑड्स सिस्टम

विलियम हिल ऑड्स सिस्टम

time:2021-10-27 15:06:51 म्‍यूचुअल फंडों के एक्सपेंस रेशियो के बारे में यहां जानिए सब कुछ Views:4591

सट्टा बंद विलियम हिल ऑड्स सिस्टम lovebet के पास एक ऐप है,fun88 गरुड़ लीग,lovebet 35/1,lovebet ग्रेहाउंड,कुवैत में lovebet स्पोर्ट वॉच की कीमत,lovebetक्स बेट365,बैकारेट 9 पीस नाइफ ब्लॉक सेट समीक्षा,बैकारेट जीतना चाहिए,सर्वश्रेष्ठ पांच वैक्यूम क्लीनर,बॉन्स लाइट प्राइवेट लिमिटेड,फ्लोरिडा में कैसीनो,शतरंज 6 कदम चेकमेट,क्रिकेट औ वी इंडिया,क्रिकेट व्यू मिल्डेनहॉल,एस्पोर्ट्स टीम का लोगो,फुटबॉल खाता आधिकारिक वेबसाइट,मुफ्त क्लासिक रम्मी ऑनलाइन खेलें,खुश किसान संगत,बिना धोखा दिए ऑनलाइन जुए पै गो को कैसे दबाएं?,क्या आज कोई फ़ुटबॉल लाइव है,ख फुटबॉल अकादमी,लाइव कैसीनो खेल सट्टेबाजी,लॉटरी कैसे जीतें,लूडो सुप्रीम गोल्ड,ऑनलाइन बैकारेट ट्रिक्स,ऑनलाइन गेम मारियो,ऑनलाइन स्लॉट नकली पैसा,प्वाइंट रम्मी गेम डाउनलोड,बंदूक के नीचे पोकर,रूले हिंदी में,रम्मी 888,रम्मीकल्चर शेयर की कीमत,स्लॉट 999,स्पोर्ट्स लाइव टीवी,टीम परले लवबेट,सबसे तेज़ मोबाइल फ़ोन कोड रूम,वीडियो बैकारेट मशीनें,कौन सी वेबसाइट फुटबॉल का प्रसारण करती है,cricket नियम,औक़ात स्टेटस इन हिंदी,क्रिकेट धोनी न्यूज़,चेस चैंपियन के बारे में,दस स्कोर क्रम 3 में,बरसात ट्विंकल खन्ना बॉबी देओल,रमी खेलने का गेम,स्टेटस जो हिला दे 2020, .म्‍यूचुअल फंडों के एक्सपेंस रेशियो के बारे में यहां जानिए सब कुछ

यह म्यूचुअल फंड के प्रबंधन पर आने वाले खर्च को प्रति यूनिट में बताता है.
  1. म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम में एक्सपेंस रेशियो क्‍या होता है?
    एक्सपेंस रेशियो एक तरह का अनुपात है. यह म्यूचुअल फंड के प्रबंधन पर आने वाले खर्च को प्रति यूनिट में बताता है. किसी म्यूचुअल फंड स्‍कीम का एक्सपेंस रेशियो कैलकुलेट करने के लिए उसके एयूएम (एसेट अंडर मैनेजमेंट) में कुल खर्च से भाग दिया जाता है. दरअसल, फंड हाउस के पास प्रशिक्षित पेशेवरों की एक होती टीम है. यही टीम मार्केट और कंपनियों पर नजर रखती है. किसी शेयर को खरीदने या उससे निकलने के फैसले भी यही लेती है. इसके साथ ही एसेट मैनेजमेंट कंपनी (एमएमसी) ट्रांसफर और रजिस्ट्रार से संबंधित खर्च, कस्टोडियन, लीगल व ऑडिट का खर्च, स्कीम की मार्केटिंग और उसके डिस्ट्रीब्यूशन का खर्च भी उठाती है. ये सभी खर्च म्यूचुअल फंड की यूनिट खरीदने वाले ग्राहक से ही लिए जाते हैं. किसी म्यूचुअल फंड स्कीम की नेट एसेट वैल्यू इस तरह के खर्च को घटाने के बाद निकाली गई वैल्यू है.

  2. डायरेक्‍ट प्‍लान की तुलना में रेगुलर प्‍लान का एक्सपेंस रेशियो ज्‍यादा क्‍यों होता है?
    डायरेक्‍ट प्‍लान की पेशकश फंड हाउस सीधे करते हैं. यानी म्‍यूचुअल फंड कंपनी से इन प्‍लान को सीधे खरीदा जा सकता है. वहीं, रेगुलर प्‍लान इंडिपेंडेंट फाइनेंशियल एडवाइजर, बैंक या एनबीएफसी जैसे इंटरमीडियरी या डिस्ट्रीब्यूटरों के जरिये खरीदे जा सकते हैं. म्‍यूचुअल फंड कंपनी इंटरमीडियरी को कमीशन देती हैं. इसे प्‍लान के एक्‍सपेंस रेशियो के तौर पर वसूला जाता है. यही कारण है कि रेगुलर प्‍लान का एक्सपेंस रेशियो ज्यादा होता है.


  3. म्‍यूचुअल फंड के एक्सपेंस रेशियो के लिए क्‍या सीमा तय है?
    बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं. जिन स्कीम का एयूएम 500 करोड़ रुपये है, वे एक्सपेंस रेशियो के रूप में अधिकतम 2.25 फीसदी चार्ज कर सकती हैं. 500-750 करोड़ रुपये एयूएम वाली स्कीम के लिए एक्सपेंस रेशियो 2 फीसदी है. 750-2,000 करोड़ रुपये वाली स्‍कीमों के लिए एक्सपेंस रेशियो 1.75 फीसदी, 2,000-5,000 करोड़ एयूएम वाली स्कीम के लिए 1.6 फीसदी और 5000-10,000 करोड़ रुपये एयूएम वाले फंड के लिए एक्सपेंस रेशियो 1.5 फीसदी हो सकता है. सेबी के निर्देश के मुताबिक, 10,000-50,000 करोड़ एयूएम वाली स्कीम के लिए एक्सपेंस रेशियो हर 5000 करोड़ रुपये बढ़ने के बाद 0.05 फीसदी कम होता चला जाएगा. अगर किसी म्यूचुअल फंड स्कीम का एयूएम 50,000 करोड़ से अधिक है तो उसके लिए एएमसी एक्सपेंस रेशियो के रूप में 1.05 फीसदी चार्ज ले सकती है.


  4. क्‍या म्‍यूचुअल फंड के एक्‍सपेंस रेशियो का रिटर्न पर असर पड़ता है?
    एक्सपेंस रेशियो बताता है कि आपके निवेश पोर्टफोलियो के प्रबंधन के लिए फंड आपसे कितनी फीस वसूल रहा है. अगर आप 2 फीसदी एक्‍सपेंस रेशियो वाली स्‍कीम में 10,000 रुपये निवेश करते हैं तो इसका मतलब यह है कि इस रकम के प्रबंधन के लिए आपको 200 रुपये की फीस चुकानी होगी. इस तरह अगर फंड का रिटर्न 12 फीसदी और उसका एक्‍सपेंस रेशियो 2 फीसदी है तो आप 10 फीसदी रिटर्न कमाएंगे. इस तरह कम एक्सपेंस रेशियो का मतलब अधिक मुनाफा है. वहीं, एक्सपेंस रेशियो अधिक होने का मतलब मुनाफा घटना है. हालांकि, यह सही है कि ज्‍यादा एक्‍सपेंस रेशियो का फंड के रिटर्न पर असर पड़ता है. लेकिन, यह जरूरी नहीं है कि हमेशा अधिक एक्सपेंस रेशियो का मतलब कम मुनाफा ही हो. निवेशकों को स्‍कीम चुनने में कई अन्‍य बातों का भी ध्यान रखना चाहिए.


पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

एक्‍सपेंस रेशियोडायरेक्‍ट प्‍लानरिटर्नसेबीम्‍यूचुअल फंडरेगुलर प्‍लान

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैअपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.नियमित आमदनी के लिए इन पांच विकल्प में निवेश कर सकते हैं सीनियर सिटीजन

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.सुपर साइकिल का ऐसे उठाएं फायदा, इन कमोडिटीज पर लगाएं दांव

भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.म्यूचुअल फंडों का एयूएम 41% बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये पहुंचा

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
पारिमैच नियम और शर्तें

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.

स्लॉट अनुस्मारक

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

विश्व कप फुटबॉल खाता

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

श पोकरस्टार्स वेगास

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

बरसात ऑल सॉन्ग

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी