तीन पत्ती जंगली रमी

तीन पत्ती जंगली रमी

time:2021-10-26 10:46:13 क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए? Views:4591

क्या जंगल रम्मी भरोसेमंद है तीन पत्ती जंगली रमी betway इंडिया विदड्रॉल,fun88 ब्रिटेन,lovebet 50/1,lovebet आईओएस ऐप,lovebet टिकट टेलीग्राम,वॉशिंग मशीन में 3 स्लॉट,बैकरेट बैंकर और खिलाड़ी,बैकारेट प्ले तकनीक फॉर्मूला,गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विज्ञान के लिए सर्वश्रेष्ठ पांच एमसीक्यू,एक लवबेट वाउचर ऑनलाइन खरीदें,कैसीनो मोंटे कार्लो,शतरंज मैं फोन,क्रिकेट की किताबों का नाम,क्रिकेटर दा सिल्वा,यूरोपीय कप फाइनल मकाऊ ओपन,फुटबॉल सट्टेबाजी जीत,गा स्लॉट,खुशहाल किसान माध्यम,इमर्सिव रूले लाइव यूट्यूब,जैकपॉट मोमबत्तियां,lakers,लाइव फुटबॉल आधिकारिक वेबसाइट,लॉटरी अर्थ,एम पोकर डाउनलोड,ऑनलाइन कैसीनो क्लब,ऑनलाइन गेम वीडियो कॉल,ऑनलाइन स्लॉट ऑड्स,पोकर 4 शर्त,पोकर यार ऐप डाउनलोड,रूले क्वेस्ट dq11,रम्मी गेम पेटीएम कैश,एस क्रिकेट लाइव टीवी,स्लॉट का हिंदी अर्थ,खेल से संबंधित करियर,तीन पत्ती राजा APK,बैकारेट संभाव्यता में कमियां,वर्चुअल क्रिकेट लीग t10,वाइल्डज़ वाई लैंग डाउर्ट औज़हलुंग,p स्टेटस,करीना हाउस,क्षत्रिय स्टेटस इन हिंदी,जैकपॉट इन हिंदी,पोकर इंडिया,बरसात है,रानी स्कारब ™,स्टेटस बनाने वाला ऐप, .क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है.
हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है. हालांकि, एक बात हर निवेशक को ध्‍यान रखने की जरूरत है. चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है. इसका मतलब है कि निवेशकों को ओरिजनल स्‍कीम के साथ ही एफओएफ के एक्सपेंस रेशियो का भार भी उठाना पड़ सकता है.

इस बात को उदाहरण से समझते हैं. मान लेते कि निवेशक हाल में लॉन्‍च निप्‍पॉन इंडिया एसेट अलोकेट एफओएफ में निवेश करते हैं. इस मामले में उन्‍हें एफओएफ का एक्‍सपेंस रेशियो 0.19 फीसदी उठाना पड़ेगा. साथ ही वह एफओएफ जिन स्‍कीमों में निवेश करेगा, उनके वेटेड एवरेज एक्‍सपेंस रेशियो का भार भी निवेशकों पर आएगा. इस मामले में तीन स्‍कीमें हैं, निप्‍पॉन इंडिया स्‍मॉलकैप फंड (1.06%), निप्पॉन इंडिया ग्रोथ फंड (1.26%) और निप्पॉन इंडिया लॉर्जकैप फंड (1.18%).

आपको एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल सिर्फ तभी करना चाहिए अगर अतिरिक्‍त कॉस्‍ट उचित है. आइए, जानते हैं कि इस फैसले तक पहुंचने में आपको किन बातों का ध्‍यान रखना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम

आपके रिटर्न प्रोफाइल में फिट हो स्‍कीम
प्राइमरी स्‍कीम यानी घरेलू म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम का उपलब्‍ध न होना एफओएफ रूट लेने का एक कारण हो सकता है. इससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह है कि इस नई स्‍कीम को आपके पोर्टफोलियो प्रोफाइल में फिट होना चाहिए.

क्रेडेरे वेल्‍थ पार्टनर्स में प्रोडक्‍ट और रिसर्च के हेड अरुण गोपालन कहते हैं, ''निवेशकों को जिस स्‍कीम में निवेश किया जा रहा है, उसे देखना चाहिए. साथ ही यह भी पता लगाना चाहिए कि उससे क्‍या मकसद हल हो रहा है.''

एलआरएस के जरिये सीधे निवेश करने में क्‍या दिक्‍कत है?
आप पूछ सकते हैं कि लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्‍कीम (एलआरएस) का इस्तेमाल करते हुए सीधे विदेशी शेयरों में क्‍यों निवेश नहीं किया जा सकता है. यह बिल्‍कुल सही है कि आप सीधे निवेश कर सकते हैं. लेकिन, उसके लिए आपको काफी विशेषज्ञता की जरूरत होगी. इस बात को ध्‍यान रखना चाहिए कि भारतीय फंड हाउस सीधे इंटरनेशनल सेगमेंट में सिर्फ इसलिए नहीं हाथ आजमा रहे हैं क्योंकि उनके पास यहां निवेश करने की कुशलता नहीं है.

इसे भी पढ़ें : मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

आप इंटरनेशनल फंडों या एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड में निवेश कर काफी हद तक विशेषज्ञता के मसले को हल कर सकते हैं. हालांकि, यह एक और परेशानी खड़ी करेगा. वह है एलआरएस व्यवस्था के तहत रिपोर्ट‍िंग की.

हाल में लॉन्‍च हुए एफओएफ
master

जहां एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल ग्‍लोबल डायवर्सिफिकेशन के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है. वहीं, अच्‍छा होगा कि घरेलू थीम के लिए इससे बचा जाए.

घरेलू एफओएफ की उपयोगिता कम
बात जब घरेलू परिदृश्य की आती है तो एफओएफ की उपयोगिता घट जाती है. हाल में लॉन्‍च कई एफओएफ अपने ही ईटीएफ में पैसा लगाएंगे. इस मामले में वैल्यू एडिशन कम है. कारण है कि निवेशक सेकेंडरी मार्केट से प्राइमरी ईटीएफ सीधे खरीद सकते हैं. हालांकि, यह निवेशकों के एक धड़े के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

प्‍लान अहेड वेल्थ एडवाइजर्स के सीईओ विशाल धवन कहते हैं कि जिन म्‍यूचुअल फंड निवेशकों के पास डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है, उनके लिए ईटीएफ में एफओएफ निवेश उपयोगी होगा.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

फंड ऑफ फंड्सएफओएफम्‍यूचुअल फंडरिटर्न प्रोफाइलएक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

जम्मू, 25 अक्टूबर (भाषा) जम्मू के उद्योगपतियों के एक संगठन ने केंद्र शासित प्रदेश में अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए जम्मू-कश्मीर के बाहर के संभावित निवेशकों को गैर-कृषि निजी भूमि के हस्तांतरण को लेकर भूमि राजस्व कानून में संशोधन की मांग की है। फेडरेशन ऑफ इंडस्ट्रीज (एफओआई) के प्रतिनिधियों ने इस संदर्भ में एक ज्ञापन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को यहां सौंपा। फेडरेशन के सह-अध्यक्ष ललित महाजन ने सोमवार को एक बयान में यह जानकारी दी। एफओआई के अध्यक्ष रतन डोगरा के साथ शाह सेचंडीगढ़, 25 अक्टूबर (भाषा) भारतीय किसान यूनियन से संबंद्ध किसानों के एक समूह ने सोमवार को हिसार के पास हांसी इलाके में डाइ-अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी) उर्वरक की अपर्याप्त आपूर्ति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। हरियाणा के कुछ जिलों में किसानों को डीएपी हासिल करने के लिए लंबी कतारों में इंतजार करते देखा गया है। डीएपी की कथित कमी को लेकर किसानों ने हांसी में विरोध प्रदर्शन किया और एक प्रदर्शनकारी अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गया। एक किसान ने संवाददाताओं से कहा, "डीएपी की कमी है। अगर जल्द से जल्द पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित नहीं की गयी तो हमारा विरोध इसी तरह जारीओएनजीसी के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.उप्र ने खाद्य तेलों के स्टॉक की सीमा को अधिसूचित किया, बाकी राज्य जल्द ऐसा करेंगे : केंद्र

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने सोमवार को यहां ई-ऑटो मेले का उद्घाटन किया, जहां संभावित खरीदार सभी उपलब्ध वाहन मॉडलों का टेस्ट-ड्राइव कर सकते हैं और वाहनों को खरीदने के लिए ऋण विकल्पों का पता लगा सकते हैं। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक दिल्ली सरकार द्वारा आयोजित मेला दो अलग-अलग जगहों - सराय काले खां में स्थित इंस्टिट्यूट ऑफ ड्राइविंग, ट्रेनिंग एंड रिसर्च (आईडीटीआर) और लोनी में शुरू हुआ है। सात दिन का यह मेला 31 अक्टूबर तक रोजाना सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक चलेगा। बयान में कहा गया किपिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.अटकी पड़ी परियोजनाओं में 150 फ्लैट दिवाली पर आम्रपाली घर खरीदारों मिलेंगे : न्यायालय को बताया

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्रिकेट आई पी एल 2021

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि उन्होंने अपने मंत्रालय के अधिकारियों से छोटे ढाबा मालिकों को राजमार्गों पर पेट्रोल पंप और शौचालय का निर्माण करने की मंजूरी देने के प्रस्ताव पर काम करने को कहा है। उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि सरकारी अधिकारियों को तेजी से फैसला लेना चाहिए क्योंकि निर्णय प्रक्रिया में देरी के कारण कई परियोजनाओं में विलंब हो रहा है। गडकरी ने कहा, "किसी ने मुझे एक एसएमएस भेजा जिसमें उसने लिखा था कि वह सफर कर रहा है और सड़क के 200-300 किलोमीटर के

फुटबॉल नकद खाता खोलना

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

तीन पत्ती से पैसे कैसे कमाए

बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.

पोकरस्टार्स 8 गेम

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

रम्मीकल्चर वीडियो

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने सोमवार को दूरसंचार लाइसेंस नियमों में संशोधन किया। इसके तहत सभी गैर-दूरसंचार राजस्व, लाभांश, ब्याज, संपत्ति बिक्री और किराये समेत अन्य को लाइसेंस शुल्क तथा स्पेक्ट्रम प्रयोग शुल्क की गणना से बाहर किया गया है। इसका उद्देश्य दूरसंचार परिचालकों पर कर बोझ को कम करना है। संशोधन केंद्र सरकार द्वारा घोषित दूरसंचार पैकेज का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) की पुरानी परिभाषा को उच्चतम न्यायालय ने बरकरार रखा है। इससे भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया समेत दूरसंचार सेवाप्रदाताओं पर करीब 1.47 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ा

संबंधित जानकारी
कैसीनो के खेल sarkari

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने फोर्टिस हेल्थकेयर होल्डिंग्स पर गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर से जुड़े नियमों का उल्लंघन के लिए 3.5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। सेबी ने सोमवार को एक आदेश में कहा कि कंपनी पर एलओडीआर (सूचीबद्धता दायित्व एवं खुलासा आवश्यकता) नियमों के कई प्रावधानों के उल्लंघन के लिए जुर्माना लगाया गया है। नियामक ने कहा कि फोर्टिस ने कुछ आईएसआईएन (इंटरनेशनल सिक्योरिटीज आइडेंटिफिकेशन नंबर) के लिए ब्याज के भुगतान के बारे में जानकारी नहीं दी। आईएसआईएन कोड का इस्तेमाल विशिष्ट रूप से शेयर, बॉन्ड वारंट और वाणिज्यिक पत्रों जैसी प्रतिभूतियों की पहचान

गरम जानकारी
ऑनलाइन जुआ मंच बुलफाइटिंग

कोलंबो, 25 अक्टूबर (भाषा) अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी ने सोमवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे से मुलाकात की। दो हफ्ते पहले उनकी कंपनी ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण कोलंबो बंदरगाह के पश्चिमी कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने और चलाने के लिए सरकार के स्वामित्व वाली श्रीलंका पोर्ट्स अथॉरिटी (एसएलपीए) के साथ एक समझौता किया था। सूत्रों ने बैठक के बारे में ज्यादा जानकारी दिए बिना कहा कि निजी यात्रा पर द्वीपीय देश आए अडाणी ने राष्ट्रपति राजपक्षे से मुलाकात की। ‘डेली मिरर’ अखबार की खबर के अनुसार, अडाणी 10 सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल के साथ रविवार को दो